Indian app demand increased after Chinese app was banned, ShareChat downloads more than five million times per hour, downloaded 150 million times in 36 hours | चीनी ऐप बैन होने के बाद बढ़ी भारतीय ऐप की डिमांड, ShareChat हर घंटे पांच लाख से ज्यादा बार डाउनलोड, 36 घंटे में 1.50 करोड़ बार हुआ डाउनलोड

0
7

  • Hindi News
  • Business
  • Indian App Demand Increased After Chinese App Was Banned, ShareChat Downloads More Than Five Million Times Per Hour, Downloaded 150 Million Times In 36 Hours

नई दिल्लीएक महीने पहले

  • कॉपी लिंक

शेयरचैट ने बताया कि MyGov India ने कंपनी के साथ पार्टनरशिप की है जिससे इस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से जुड़े 60 मिलियन ऐक्टिव यूजर्स को कनेक्ट किया जा सके

  • इस समय शेयरचैट पर 6 करोड़ से ज्यादा मंथली ऐक्टिव यूजर्स हैं
  • शेयरचैट एंड्रायड और iOS दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है

सरकार द्वारा 59 चीनी मोबाइल एप पर प्रतिबंध लगाने के बाद भारतीय ऐप की तेजी से डिमांड बढ़ी है। देसी ऐप शेयरचैट ने डाउनलोड के मामले में सारे रिकॉर्ड तोड़ दिया है। इस ऐप को हर घंटे करीब पांच लाख बार डाउनलोड किया जा रहा है। पिछले 36 घंटों में करीब 1.50 करोड़ यूजर्स इस एप को डाउनलोड कर चुके हैं। बता दें कि शेयरचैट की भारत में चीन के हेलो  और टिकटॉक से टक्कर है। 

MyGov India ने कंपनी के साथ की पार्टनरशिप

शेयरचैट ने बताया कि MyGov India ने कंपनी के साथ पार्टनरशिप की है जिससे इस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से जुड़े 60 मिलियन ऐक्टिव यूजर्स को कनेक्ट किया जा सके। बता दें कि शेयरचैट के प्लेटफॉर्म पर 1 लाख से ज्यादा ऐसे पोस्ट किए गए हैं जिनमें भारत सरकार की तरफ से चाइनीज ऐप्स को बैन करने के फैसले का समर्थन किया गया है। 

यह सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म four साल पुराना है 

शेयरचैट four साल पुराना सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है। कंपनी के पास मौजूदा समय में 150 मिलियन से ज्यादा रजिस्टर्ड यूजर्स हैं वहीं 6 करोड़ से ज्यादा मंथली ऐक्टिव यूजर्स हैं। मौजूदा समय में यूजर्स रोजाना करीब 25 मिनट इस प्लेटफॉर्म पर बिताते हैं।

यह ऐप एंड्रायड और iOS दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है

शेयरचैट एंड्रायड और iOS दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है, जहां से डाउनलोड करके यूजर्स इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। शेयरचैट 15 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है। इनमें हिंदी, मलयालम, गुजराती, मराठी, पंजाबी, तेलगु, तमिल, बंगाली, उड़िया, कन्नड़, आसामीज, हरियाणवी, राजस्थानी, भोजपुरी और उर्दू जैसी भाषाएं शामिल हैं।

0

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here