Former Pakistan batsman Aamer Sohail believes the Wasim Akram led-side played like a local team in the 1999 World Cup where they finished as runners-up | पूर्व बल्लेबाज ने कहा- 1999 वर्ल्ड कप में लोकल टीम की तरह खेली थी पाकिस्तानी टीम, अफरीदी को टीम में शामिल करना बड़ी गलती थी

0
5

  • Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Former Pakistan Batsman Aamer Sohail Believes The Wasim Akram Led aspect Played Like A Local Team In The 1999 World Cup Where They Finished As Runners up

9 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

आमिर सोहेल ने कहा कि वो चाहते थे कि 1999 वर्ल्ड कप में मोहम्मद यूसुफ खेलें, लेकिन कप्तान वसीम अकरम ने अफरीदी को चुना, जिसको न गेंदबाजी आती थी और न बल्लेबाजी। -फाइल

  • 1999 के वर्ल्ड कप फाइनल में पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 132 रन बनाए थे, ऑस्ट्रेलिया ने 2 विकेट खोकर ही यह टारगेट हासिल कर लिया था
  • आमिर सोहेल ने कहा कि अगर मैं वसीम अकरम की जगह कप्तान होता, तो मोहम्मद युसूफ को अफरीदी पर तरजीह देता

पाकिस्तान के पूर्व बल्लेबाज आमिर सोहेल का मानना है कि वसीम अकरम की अगुआई वाली पाकिस्तान टीम 1999 के वर्ल्ड कप में लोकल टीम की तरह खेली थी। सोहेल ने कहा कि उस वर्ल्ड कप में हर मैच के साथ टीम का लाइन अप और बैटिंग ऑर्डर तक बदल जाता था। उन्होंने अपने यू-ट्यूब चैनल पर एक वीडियो में यह बातें कहीं। 

सोहेल ने कहा कि टीम कॉम्बिनेशन और टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाजी के फैसले के चलते हम वो मैच हारे थे। 1999 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान टीम रनर-अप रही थी। फाइनल में पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान ने सिर्फ 132 रन बनाए थे, ऑस्ट्रेलिया ने यह लक्ष्य 2 विकेट खोकर ही हासिल कर लिया था। 

1999 वर्ल्ड कप में अफरीदी को शामिल करना बड़ी गलती: सोहेल

पाकिस्तान के इस पूर्व कप्तान का मानना है कि 1999 वर्ल्ड कप में अफरीदी को टीम में शामिल करना और उनसे सलामी बल्लेबाजी करवाना बहुत बड़ी गलती थी। आमिर ने कहा कि वो चाहते थे कि मोहम्मद यूसुफ खेलें, लेकिन तब के कप्तान वसीम अकरम ने अफरीदी को चुना, जिसको न गेंदबाजी आती थी और न बल्लेबाजी। 

‘मैंने सिलेक्टर्स से रेगुलर ओपनर की डिमांड की थी’

सोहेल ने आगे कहा कि जब मैं 1998 में कप्तान था, तो मैंने सिलेक्टर्स के साथ यह फैसला लिया था कि हमारे पास रेगुलर ओपनर होने चाहिए, जो विकेट पर टिक सकें और नई गेंद का सामना कर सकें।

दुर्भाग्य से शाहिद अफरीदी को चुना गया, वो बिना उछाल वाली पिच पर गेंदबाजों को दबाव में ला सकता था, लेकिन जिन कंडीशंस में हमें खेलना था, उसको देखते अफरीदी को टीम में शामिल करना बड़ा रिस्क था। क्योंकि वो न तो गेंदबाजी कर पाता था और न ही बल्लेबाजी।

‘मैं मोहम्मद युसूफ को अफरीदी पर तरजीह देता’

उन्होंने कहा कि अगर मैं वसीम अकरम की जगह कप्तान होता, तो मैं मोहम्मद यूसुफ को जरूर अफरीदी पर तरजीह देता। 1999 का वर्ल्ड कप अफरीदी के लिए अच्छा नहीं रहा और उन्होंने 7 पारी में सिर्फ 93 रन ही बनाए। सोहेल ने 1996 से 1998 के बीच 22 वनडे और 6 टेस्ट में पाकिस्तान की कप्तानी की थी। 

0

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here