कोविड 19 : डॉक्टरों ने बताया क्यों कम हैं महिलाओं की मौत के आंकड़े | Doctor explains why less women are dying due to covid 19 than men | rest-of-world – News in Hindi

0
69

दुनिया भर के जिन देशों में नोवेल कोरोना वायरस (Novel Coronavirus) महामारी (Pandemic) का कहर टूटा है, वहां किए गए अध्ययन (Study) में खुलासा हुआ है कि महिलाओं की तुलना में संक्रमित पुरुषों के मारे जाने की आशंका ज़्यादा है. एक रिपोर्ट के मुताबिक सबसे पहले यह अंतर चीन (China) में देखा गया, जहां संक्रमित पुरुषों में से 2.eight फीसदी की जान गई (Casuality) लेकिन संक्रमित महिलाओं में से 1.7 फीसदी की ही.

इसी तरह यह अंतर कई देशों में देखा गया. अल जज़ीरा की रिपोर्ट के हवाले से कहा जा रहा है कि इटली (Italy) में भी ऐसा ही अंतर देखा गया जहां 7.2 संक्रमित (Infected) पुरुष मारे गए जबकि 4.1 महिलाएं. दक्षिण कोरिया (South Korea) में वायरस की चपेट में महिलाएं ज़्यादा आईं लेकिन संक्रमितों में से 54 फीसदी मौतों के शिकार पुरुष रहे. हालांकि वैज्ञानिक अभी इसके कारणों के बारे में पूरी तरह नहीं समझ सके हैं, लेकिन कई थ्योरीज़ अब तक संभावना के तौर पर सामने आ रही हैं.

खराब लाइफस्टाइल
डॉ कयात ने इस रिपोर्ट में लिखा है कि तंबाकू और अल्कोहल जैसी आदतें पुरुषों में ज़्यादा देखी गई हैं और लाइफस्टाइल में खानपान संबंधी खराब आदतें भी पुरुषों में ज़्यादा हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़े भी कहते हैं कि पुरुष महिलाओं की तुलना में पांच गुना ज़्यादा स्मोकिंग व अल्कोहल का सेवन करते हैं.

corona virus, corona virus update, covid 19 update, corona virus treatment, corona virus कोरोना वायरस, कोरोना वायरस अपडेट, कोविड 19 अपडेट, कोरोना वायरस इलाज, कोरोना वायरस संक्रमण

अध्ययन बताते हैं कि हाथ धोने की आदत को लेकर पुरुषों से कहीं ज़्यादा महिलाएं सतर्क रहती हैं.

स्मोकिंग करने वाला कोई व्यक्ति अगर कोरोना वायरस की चपेट में आता है, तो उसकी सेहत में कई तरह की गंभीर दिक्कतें आ सकती हैं. अल जज़ीरा की रिपोर्ट कहती है कि हालांकि इटली में जब स्मोकिंग के आंकड़े कोरोना के कारण हुई मौतों के आंकड़ों से मिलाए गए, तो यह थ्योरी पूरी तरह संतोषजनक नहीं थी कि क्यों महिलाओं की तुलना में पुरुष इस संक्रमण के कारण ज़्यादा मारे गए.

हैंडवॉश आदतें
डॉक्टर लगातार सलाह देते रहे हैं कोरोना वायरस जैसे संक्रमणों से बचने के लिए कुछ कुछ देर में हाथों को कुनकुने पानी और साबुन से ठीक तरह से धोने की आदत फायदेमंद है. लेकिन, इस रिपोर्ट में डॉ कयात ने लिखा है कि अध्ययन बताते हैं कि हाथ धोने की आदत को लेकर पुरुषों से कहीं ज़्यादा महिलाएं सतर्क रहती हैं.

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अमेरिका में 2009 में हुई एक स्टडी में पाया गया था कि पब्लिक टॉयलेट के इस्तेमाल के बाद 31 फीसदी पुरुषों में हाथ धोने की आदत देखी गई जबकि 65 फीसदी महिलाओं में. लेकिन, यह थ्योरी भी इसलिए फेल होती है क्योंकि पुरुष और महिलाओं में संक्रमण तकरीबन बराबरी से फैल रहा है, बस मौतों के मामले में पुरुषों का प्रतिशत ज़्यादा है.

मेडिकल चेकअप थ्योरी
डॉ. कयात की रिपोर्ट में साफ कहा गया है कि स्वास्थ्य संबंधी जागरूकता के मामले में महिलाएं पुरुषों से आगे हैं. सामान्य फिज़िशियन के पास पुरुष कम जाया करते हैं. साथ ही, पुरुष अपनी समस्याओं को स्वीकार करने और मेडिकल मदद लेने में कोताही बरतते हैं. रिपोर्ट कहती है कि इस कारण यह संभव है कि पुरुष लक्षणों के गंभीर होने तक इंतज़ार करते हैं, जिससे उनके बचने की संभावना कम होती जाती है जबकि महिलाएं शुरूआती लक्षणों से ही चेत जाती हैं.

corona virus, corona virus update, covid 19 update, corona virus treatment, corona virus कोरोना वायरस, कोरोना वायरस अपडेट, कोविड 19 अपडेट, कोरोना वायरस इलाज, कोरोना वायरस संक्रमण

कोरोना वायरस संकट के दौरान फिलीपीन्स में कम्युनिटी क्वारैण्टीन किए गए बेघरों के एक शेल्टर में मास्क पहने पुरुष.

इम्युनिटी सिस्टम
डॉ. कयात की रिपोर्ट की मानें तो अन्य वायरसों से जुड़े पिछले कुछ अध्ययनों में पता चला कि वायरल इन्फेक्शन के समय महिलाओं की इम्युनिटी बेहतर ढंग से प्रतिरोध करती है. सरल अर्थ ये है कि वायरल संक्रमण को अपने शरीर से महिलाएं जल्दी दूर करने में सक्षम होती हैं. डॉ. कयात ने यह भी लिखा है कि इस इम्युनिटी का एक दुर्भाग्यपूर्ण खतरा यह है कि महिलाओं को ऑटोइम्यू​न समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है.

हॉर्मोन थ्योरी
अध्ययनों के हवाले से इस थ्योरी में कहा गया है कि वायरस संबंधी इम्युनिटी महिलाओं के मासिक धर्म की साइकल के अलग अलग स्टेजों में हार्मोन में आने वाले बदलावों पर निर्भर करती है. इसके साथ ही, गर्भनिरोधक दवाओं, गर्भधारण और मीनोपॉज़ की स्थितियों में भी हार्मोन्स में बदलाव आते हैं. इन कारणों से संभव है कि कोविड 19 से जुड़ी मृत्यु दर के पीछे कहीं न कहीं महिलाओं की हॉर्मोनल स्थिति की कुछ भूमिका हो.

अतिरिक्त X क्रोमोज़ोम
रिपोर्ट में आखिरी थ्योरी है कि महिलाओं के इम्युनिटी सिस्टम के अलग अलग बर्ताव करने के पीछे उनके शरीर में एक अतिरिक्त क्रोमोज़ोम की मौजूदगी है. डॉ. कयात ने लिखा है कि महिलाओं के पास दो X क्रोमोज़ोम (XX) होते हैं, जबकि पुरुषों के पास एक (XY). हमारे इम्यून रिस्पॉंस को नियंत्रित करने वाले अनेक जीन्स X क्रोमोज़ोम में ही कोडेड होते हैं इसलिए इस थ्योरी को समझना होगा.

corona virus, corona virus update, covid 19 update, corona virus treatment, corona virus कोरोना वायरस, कोरोना वायरस अपडेट, कोविड 19 अपडेट, कोरोना वायरस इलाज, कोरोना वायरस संक्रमण

महिलाओं और पुरुषों में क्रोमोज़ोम्स की संरचना.

डॉ. कयात के मुताबिक हालांकि यह थ्योरिटिकल है लेकिन दूसरे X क्रोमोज़ोम की मौजूदगी से महिलाओं को कुछ फायदा मिल रहा हो, यह संभव है. आखिर में डॉ. कयात ने लिखा है कि हो सकता है कि जिस सवाल का जवाब हम ढूंढ़ रहे हैं, वह व्यवहार, इम्यून सिस्टम, हॉर्मोनल और आनुवांशिक फैक्टरों में ही छुपा हो.

ये भी पढ़ें :-

कोरोना वायरस: इस वैश्विक महामारी ने ऐसे सिखाए बेसिक सफाई के सबक

आखिर क्यों अपने प्रमुख टेड्रोस के अतीत के कारण विश्व स्वास्थ्य संगठन पर उठ रहे सवाल



[ad_2]

Leave a Reply