कोरोना संक्रमण पर बोले पोप- पर्यावरण संकट पर कुदरत ने दिया जवाब | pope francis says coronavirus pandemic could be natures response to climate crisis | rest-of-world – News in Hindi

0
61

कोरोना संक्रमण पर बोले पोप- पर्यावरण संकट पर कुदरत ने दिया जवाब

कोरोना वायरस के संक्रमण पर पोप फ्रांसिस ने कहा है कि ये कुदरत का दिया जवाब हो सकता है.

पोप फ्रांसिस (Pope Francis) ने कोरोना (Coronavirus) के संक्रमण पर कहा है कि ये कुदरत का दिया जवाब हो सकता है.

रोम: पोप फ्रांसिस (Pope Francis) ने कहा है कि कोरोना (Coronavirus) की महामारी पर्यावरण के साथ किए मानवीय छेड़छाड़ पर कुदरत (nature) का दिया जवाब हो सकता है. कुदरत ने पर्यावरण संकट (Climate Crisis) पर अपने तरीके से जवाब दिया है. पोप फ्रांसिस ने एक ईमेल से दिए इंटरव्यू में ये बातें कही हैं. पोप फ्रांसिस का इंटरव्यू कॉमनवेल्थ मैगजीन में छपी है.

सीएनएन की एक रिपोर्ट के मुताबिक पोप ने अपने इंटरव्यू में कहा है कि इस महामारी ने हमें एक अवसर प्रदान किया है कि हम अपने उत्पादन और खपत को धीमा करें. हम कुदरत को समझें और उसी के मुताबिक व्यवहार करें. पोप ने कहा है- ‘हमने आंशिक तबाही पर कोई जवाब नहीं दिया. अब आस्ट्रेलिया की आग पर कौन बात करता है. आपको याद है कि 18 महीने पहले नॉर्थ पोल की ग्लेशियर इतना पिघल चुका था कि उससे होकर बोट गुजर सकती थी. अब बाढ़ पर कौन बात करता है.’

कोरोना की वजह से बदला वेटिकन का माहौल
पोप ने कहा कि मैं नहीं जानता की कुदरत बदला ले रही है या नहीं. लेकिन ये बिल्कुल कुदरत का जवाब है. कोरोना वायरस की वजह से इटली का माहौल पूरी तरह से बदल चुका है. वेटिकन के तौर तरीके भी बदल गए हैं. पोप के चर्च में इनदिनों आमतौर पर लोगों की भीड़ रहा करती थी. लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से आज पूरा चर्च खाली है. टूरिस्ट भी नहीं आ रहे हैं.पोप फ्रांसिस का भी दो बार वायरस संक्रमण की जांच हो चुकी है. उनकी रिपोर्ट दोनों बार नेगेटिव आई है. 83 साल के पोप 20 साल की उम्र से ही लंग्स की एक बीमारी से जूझ रहे हैं. पोप ने लोगों से दूरी बनाए रखी है. वो अलग कमरे में भोजन करते हैं. किसी भी मेहमान से मिलने से पहले और बाद में वो हैंड सैनेटाइजर का इस्तेमाल करते हैं. इस बारे में वेटिकन प्रेस ऑफिस की तरफ से जानकारी दी गई है.

पोप ने कोरोना से लड़ने में सरकार की कार्रवाई की आलोचना की
पोप ने ये भी कहा है कि वो अपने ब्रोंकाइटिस की बीमारी से रिकवर कर रहे हैं और अनिश्चितता के इस भीषण दौर में लोगों के लिए प्रार्थना कर रहे हैं. पोप फ्रांसिस ने ये भी कहा कि वो हर मंगलवार को प्रभु के सामने अपने स्वार्थ के लिए क्षमा मांगते हैं.

उन्होंने कोरोना से लड़ने में सरकार की कार्रवाई की भी आलोचना की. उन्होंने कहा कि बेघरों को होटलों में क्वॉरेंटाइन किया जाना चाहिए, पॉर्किंग एरिया में नहीं. उहोंने कहा कि ये वक्त गरीबों की देखभाल करने का है.

ये भी पढ़ें:

कोरोना: इस शहर में लगा ऑड-ईवन फॉर्मूला, मर्द और औरत एकसाथ नहीं कर सकते खरीदारी

सस्ती सिगरेट के लिए फ्रांस से पैदल स्पेन जा रहा था शख्स, पुलिस ने पकड़ा

फ्रांस के डॉक्टरों ने अफ्रीकी लोगों पर कोरोना वैक्सीन की जांच की दी विवादित सलाह

कोरोना: मेडिकल स्टाफ मरते हुए मरीजों को दे रहे सेलफोन, ताकि वो परिजनों को अलविदा कह सकें

कोरोना: जर्मनी में 24 घंटे में 206 मौतें, पिछले three दिनों में सबसे ज्यादा बढ़ा संक्रमण

कोरोना: स्पेन में 24 घंटे में 743 मौतें, अमेरिका के बाद सबसे ज्यादा मामले

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First revealed: April 8, 2020, 11:45 PM IST



[ad_2]

Leave a Reply