कोरोना वायरस : इटली से मिलने लगे हैं कुछ राहत के संकेत, जानिए कैसे | Italy shows signs that corona virus pandemic is slowing down with hopeful new figures | rest-of-world – News in Hindi

0
329

दुनिया में कोरोना वायरस (Corona Virus) का कहर टूटा तो सबसे बुरी तरह प्रभावित होने वाला देश इटली (Italy) रहा. कोविड 19 (Covid 19) से संक्रमितों की 12 हज़ार से ज़्यादा मौतें (Toll) सिर्फ इटली में हुईं. लेकिन उम्मीद देने वाली खबर यह है कि पिछले करीब एक हफ्ते के दौरान लगातार इटली में संक्रमण (Infection in Italy) के मामले लगातार कम हो रहे हैं और वहां राहत के संकेत मिल रहे हैं.

कई स्रोतों से आ रही खबरों की मानें तो इटली में जबसे संक्रमण फैला, तब से अब पुष्ट केसों (Confirm Cases) की संख्या सबसे कम के स्तर पर आ गई है और अब सिर्फ चार फीसदी रह गई है. एक्सप्रेस यूके की बुधवार की ही ताज़ा रिपोर्ट कहती है कि चार दिन पहले के मुकाबले कन्फर्म केसों की संख्या आधी रह गई है जबकि दो हफ्ते पहले जितने कन्फर्म केस आ रहे थे, अब उससे चार गुना कम हो गए हैं.

आइए जानें कि इटली में हालात कैसे बदल रहे हैं और कौन से कारण हैं कि सबसे अशांत खबरें जिस देश से आ रही थीं, वहां से राहत के समाचार आने लगे हैं.

लॉम्बार्डी में कम हुए केसउत्तरी इटली का लॉम्बार्डी शहर देश का सबसे प्रभावित इलाका था और राहत की बात यह है कि यहां पॉज़िटिव केसों में कमी देखी जा रही है. जॉन होपकिन्स यूनिवर्सिटी के हवाले से रिपोर्ट कहती है कि रविवार के मुकाबले सोमवार को 380 केस कम देखे गए. इसी तरह मंगलवार को सामने आए केसों की संख्या 120 तक कम थी.

कैसे आ रही है मामलों में कमी?
असल में, इटली की आलोचना इस बात को लेकर हुई थी कि उसने सख्त कदम उठाने में देर की और पर्याप्त उपाय नहीं किए. लेकिन 9 मार्च को देश में सख्त लॉकडाउन घोषित किया गया और तीन हफ्ते के बाद अब इसका असर दिखना शुरू हुआ है. बिज़नेस इनसाइडर की रिपोर्ट के मुताबिक़ इटली सरकार के सलाहकार ने कहा है, ‘इस तरह के देश के बर्ताव के कारण हम जानें बचाने में कामयाब हो रहे हैं’.

corona virus, corona virus update, covid 19 update, corona virus in italy, covid 19 in italy, कोरोना वायरस, कोरोना वायरस अपडेट, कोविड 19 अपडेट, इटली कोरोना वायरस, इटली कोविड 19

इटली में लॉकडाउन के दौरान ज़रूरी सामान की दुकानें खुलीं लेकिन लॉकडाउन सख़्ती से लागू किया गया.

जंग अभी लंबी है!
लॉकडाउन के असर से राहत की कुछ खबरें तो आई हैं लेकिन अभी सख्ती से आइसोलेशन और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे उपायों के साथ इटली को अभी देर तक रहना होगा. इटली सरकार के हवाले से डीडब्ल्यू ने रिपोर्ट किया है कि लॉकडाउन के सकारात्मक असर के बाद और सख़्त कदम उठाने की बारी है. अभी जंग लंबी है और इटली को सामान्य हालात की तरफ लौटने के लिए सख़्त जंग लड़ना ही होगी.

क्या है अब तक की स्थिति?
इटली में कोरोना वायरस संक्रमितों के कुल कन्फर्म मामले 1 लाख 5 हज़ार से ज़्यादा हो चुके हैं और 12 हज़ार 400 से ज़्यादा संक्रमितों के मारे जाने के आंकड़े हैं. इसके बावजूद विशेषज्ञ मान रहे हैं कि उन्हें सिर्फ कन्फर्म केसों का ही पता है, यह नहीं पता कि देश में वास्तव में कुल कितने लोग संक्रमित हैं या हो सकते हैं.

क्या कम टेस्ट हैं मामलों में कमी की वजह?
पिछले एक हफ्ते में इटली में लगातार कन्फर्म केसों की संख्या में आई कमी के पीछे एक कारण जांचों में कमी भी हो सकती है. एक्सप्रेस यूके ने अपनी खबर में लिखा है कि पिछले कुछ दिनों में कम टेस्ट किए गए हैं.

चुनौतियां सामने खड़ी हैं
अब एक नया सवाल यह खड़ा है कि क्या इटली में संक्रमण का दौर अपने सबसे खराब दौर में पहुंच चुका है या सबसे खराब से गुज़र चुका है? विशेषज्ञों का एक वर्ग इसका जवाब हां में दे रहा है तो दूसरे का मानना है कि खतरे को कम नहीं समझना चाहिए.

डब्ल्यूएचओ के माइक रेयान के हवाले से एक्सप्रेस ने लिखा है कि लॉकडाउन सार्थक साबित हुआ, लेकिन यह समझना बेहद मुश्किल है कि सबसे खराब दौर क्या है. वुहान के मुकाबले में देखा जाए तो इटली में सबसे खराब दौर देखा जा चुका है लेकिन क्या इससे बुरा कुछ नहीं हो सकता? यह कहना मुश्किल है. रेयान ने ज़ोर दिया कि बजाय सबसे खराब दौर पर चर्चा के, इटली को ज़्यादा से ज़्यादा जांचों और आइसोलेशन पर ध्यान रखना होगा.

ये भी पढ़ें:-

कोरोना वायरस से आई मंदी बढ़ा देगी रोबोट्स की तादाद

सिंगापुर औऱ हांगकांग ने कैसे किया कोरोना को काबू?



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here