कोरोनावायरस की महामारी से जीतने के लिए फ्रांस ने बढ़ाया एक महीने का लॉकडाउन |france to remain in strict lock down for another month | rest-of-world – News in Hindi

0
44

कोरोनावायरस की महामारी से जीतने के लिए फ्रांस ने बढ़ाया एक महीने का लॉकडाउन

फ्रांस के राष्‍ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने कहा कि कोरोना महामारी से जीतने के लिए घर में रहना जरूरी है

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युअल मैक्रों (Emmanuel Macron) ने कोरोनावायरस (Coronavirus) से निपटने में नाकामी को स्वीकार करते हुए कहा कि फिलहाल दूर दूर तक इस संकट का अंत नहीं दिखाई दे रहा है

कोरोना (Coronavirus) के कहर के शिकार यूरोपीय (Europe) देशों में फ्रांस (France) की हालत लगातार गंभीर होती जा रही है. संक्रमण और उससे होने वाली मौत के आंकड़ों को देखते हुए फ्रांस में लॉकडाउन (Lock Down) की अवधि बढ़ा दी गई है. फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युअल मैक्रों (Emmanuel Macron) ने 11 मई तक लॉकडाउन बढ़ा दिया है.

मैक्रों ने कोरोनावायरस से निपटने में नाकामी को स्वीकार करते हुए कहा कि फिलहाल दूर दूर तक इस संकट का अंत नहीं दिखाई दे रहा है. राष्ट्र के नाम एक टीवी संबोधन में मैक्रों ने कहा कि कोरोनावायरस को हराने के लिए घर में रहना जरूरी है.

फ्रांस में पिछले 24 घंटों में 762 लोगों की मौत के साथ आंकड़ा 15 हज़ार 729 हो गया है. फ्रांस में अब तक कुल 1 लाख 43 हज़ार 303 लोग संक्रमित हो चुके हैं. जबकि 28805 लोग कोरोना संक्रमण से पूरी तरह ठीक हो कर अस्पताल से डिस्चार्ज किए जा चुके हैं.

मैक्रों ने four हफ्ते के लॉकडाउन का ऐलान करते हुए इसके सख्ती से पालन करने की बात की. दरअसल इससे पहले भी लॉकडाउन के नियमों का पालन न करने वालों पर सरकार ने 135 यूरो जुर्माने के तौर पर लगाए थे.हालांकि फ्रांस में सोमवार को दर्ज हुए मौत के आंकड़ों में पिछले दिनों की तुलना में कमी देखी गई थी. फ्रांस में लगातार चौथे दिन आईसीयू में मरीजों की भर्ती में गिरावट दर्ज की गई थी. फ्रांस के स्वास्थ्य महानिदेशक जेरिस सॉलोमन ने कहा कि महामारी पठार तक पहुंच गई है लेकिन सतर्क रहने की जरूरत है.

फ्रांस की ही तरह भारत ने अपने यहां three मई तक के लिए लॉकडाउन बढ़ाने का ऐलान किया. जबकि पाकिस्तान ने भी लॉकडाउन की मियाद को 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया. लेकिन पाकिस्तान ने लॉकडाउन के दौरान उद्योगों और लोगों को मस्जिद में नमाज़ पढ़ने की छूट दी है. जबकि कोरोना के संक्रमण से बुरी तरह प्रभावित हुए स्पेन ने कंस्ट्रक्शन और मैन्युफैक्चिरंग सेक्टर में लॉकडाउन में राहत दी है. जबकि ब्रिटेन ने फिलहाल लॉकडाउन से किसी भी तरह की राहत देने से इनकार किया है.

चीन के वुहान से निकले कोरोनावायरस ने फ्रांस में 31 जनवरी को पहली दस्तक दी थी जब कोरोना संक्रमण के three मामले सामने आए थे. तीनों पॉज़िटिव लोग चीन से वापस फ्रांस लौटे थे जिसके बाद उन्हें निगरानी में रखा गया. लेकिन लेकिन माना जाता है कि फ्रांस में कोरोनावायरस का असली कोहराम एक चर्च में हुई सामूहिक प्रार्थना के बाद शुरू हुआ.

दरअसल फ्रांस के उत्तरी शहर म्यूलहाउस के एक प्रतिष्ठित चर्च में एक हफ्ते तक धार्मिक आयोजन चला. इसमें शामिल होने सैकड़ों श्रद्धालु यूरोप, लैटिन अमेरिका और अफ्रीकी देश से आए थे. इस महा आयोजन में शामिल कोई शख्स कोरोनावायरस से ग्रसित था जिसकी वजह से फ्रांस में तेजी से संक्रमण फैला. बताया जाता है कि कोरोनावायरस के संक्रमण से मारे गए 17 लोगों का चर्च से कनेक्शन था जबकि 2500 संक्रमित लोग प्रार्थना का हिस्सा बने थे.

दुनियाभर में कोरोना संक्रमण से 1 लाख 20 हज़ार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है जबकि तकरीबन 20 लाख लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं. अब तक कोविड 19 को लेकर कोई वैक्सीन सामने नहीं आ सकी है. सिर्फ ऐहितयात बरत कर ही इस महामारी का सामना किया जा रहा है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First printed: April 15, 2020, 2:01 AM IST



[ad_2]

Leave a Reply