Covid-19: भारतीय और पाकिस्तानी नागरिकों को देश वापस लाने में मदद कर रहा है हांगकांग | rest-of-world – News in Hindi

0
125

Covid-19: भारतीय और पाकिस्तानी नागरिकों को देश वापस लाने में मदद कर रहा है हांगकांग

हांगकांग ने मदद के लिए 5,000 लोगों से किया संपर्क

हांगकांग (Hong Kong) कोविड-19 (Covid-19) के कारण फंसे 5,000 से अधिक भारतीयों एवं पाकिस्तानियों को उनके घर वापस लाने में मदद करने की कोशिश कर रहा है.

हांगकांग. हांगकांग कोविड-19 (Covid-19) को काबू करने के लिए भारत और पाकिस्तान में सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिए जाने के बाद वहां फंसे 5,000 से अधिक भारतीयों एवं पाकिस्तानियों को यहां स्थित उनके घर वापस लाने में मदद करने की कोशिश कर रहा है. एक सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार हांगकांग इमीग्रेशन डिपार्टमेंट ने भारत में करीब 3,200 और पाकिस्तान में 2,000 निवासियों से संपर्क किया है. भारत में डोमेस्टिक यात्राओं पर भी कड़े प्रतिबंध के कारण हर यात्रा के लिए मंजूरी लेना जरूरी है.

हांगकांग शहर के पास लोगों का जांच करने, उन्हें आइसोलेट करने और उनका इलाज करने की सीमित क्षमता है. सरकार अपने निवासियों को चरणों में विमान से वापस बुलाने की योजना बना रही है. इस योजना के तहत सबसे पहले नई दिल्ली और इस्लामाबाद में इनके आस-पास रह रहे लोगों के लिए चार्टर्ड विमानों की व्यवस्था की जाएगी. यात्रियों को अपनी यात्रा के लिए भुगतान करना होगा.

शुरुआत में ही हो गया था सतर्क
हांगकांग ने बिना लॉकडाउन के भी कोरोना के प्रसार पर रोक लगाने में सफलता प्राप्त की है. यहां पर अप्रैल के मध्य तक कुल 1000 केस थे जिनमें से भी 568 लोग ठीक हो चुके हैं. हांगकांग ने शुरुआत में ही चीन से आने वाले यात्रियों निगरानी शुरू कर दी गई थी. संक्रमण को रोकने के लिए मार्च की शुरुआत से ही टेस्टिंग शुरू हो गई थी. वहीं चीन और दूसरे संक्रमित देशों से आने वाले लोगों को 14 दिनों तक अपने घर में क्वारंटाइन में रखा गया है.हांगकांग क्वारंटीन में रहने वाले को पहनाया स्‍मार्ट रिस्‍टबैंड

फोर्ब्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक, हांगकांग में क्वारंटीन में रहने वाले लोगों को वहां के प्रशासन ने स्‍मार्ट रिस्‍टबैंड पहनना अनिवार्य कर दिया था. तकरीबन 60 हजार लोगों को ऐसे बैंड पहनाए गए थे. न्‍यूयॉर्क पोस्‍ट की रिपोर्ट के मुताबिक, दक्षिण कोरिया ने भी ऐसे बैंड का इस्तेमाल लोगों को क्वारंटीन में ट्रैक करने के लिए किया था. दक्षिण कोरिया में क्वारंटीन में रहने वाले लोग प्रशासन को चकमा देने के लिए फोन छोड़कर क्वारंटीन सेंटर्स से बाहर जा रहे थे. (एजेंसी इनपुट)

ये भी पढ़ें: कोरोना: अब कनाडा के ओल्ड ऐज होम्स में बूढ़ों को मरने के लिए छोड़ दिया गया…

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First revealed: April 26, 2020, 10:25 AM IST



[ad_2]

Leave a Reply