कोरोना पर चौतरफा घिरा चीन, ऑस्ट्रेलिया ने वायरस के वुहान टू वर्ल्ड तक फैलने की जांच की मांग की |australia demand inquiry of handling corona outbreak by china | rest-of-world – News in Hindi

0
80

कोरोना पर चौतरफा घिरा चीन, ऑस्ट्रेलिया ने वायरस के 'वुहान टू वर्ल्ड' तक फैलने की जांच की मांग की

ऑस्ट्रेलिया ने भी four हफ़्तों के लिए लॉकडाउन बढ़ाया.

ABC टेलीविज़न से बातचीत में ऑस्ट्रेलिया की विदेश मंत्री मैरिस पाइन ने कहा है कि चीन की पारदर्शिता को लेकर उनकी चिंता बहुत महत्वपूर्ण है

कोरोनावायरस (Coronavirus) महामारी को लेकर अब चीन (China) पर दुनिया के देशों का दबाव बढ़ाना शुरू हो गया है. अमेरिका (America) के बाद ऑस्ट्रेलिया (Australia) ने भी कोरोना महामारी से निपटने में चीन की भूमिका को लेकर सवाल उठाए हैं. ऑस्ट्रेलिया ने कोरोनावायरस के नियंत्रण और रोकथाम में चीन की पारदर्शिता पर सवाल उठाते हुए वायरस के उत्पन्न होने और फैलने को लेकर एक स्वतंत्र अंतर्राष्ट्रीय जांच की मांग की है.

ABC टेलीविज़न से बातचीत में ऑस्ट्रेलिया की विदेश मंत्री मैरिस पाइन ने कहा है कि चीन की पारदर्शिता को लेकर उनकी चिंता बहुत महत्वपूर्ण है. देश वैश्विक महामारी को लेकर जांच चाहता है जिसमें वुहान में कोरोना के पहले मामले आने के बाद चीन के रेस्पॉन्स की भी जांच होनी चाहिए.

चीन के वुहान के वेट मार्केट से शुरू हुआ कोरोनावायरस दुनिया में कहर मचा रहा है. अब तक 23 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि एक लाख 60 हज़ार से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं. ऐसे में वायरस की उत्तपत्ति और रोकथाम को लेकर चीन के उठाए गए कदमों पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी सवाल कर चुके हैं.  मेरिस पाइन ने कहा कि उन्होंने अपनी चिंता अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से भी ज़ाहिर की थी.

कोरोना महामारी को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति ने चीन के साथ विश्व स्वास्थ्य संगठन को कठघरे में खड़ा किया है. ट्रंप ने WHO पर बीमारी को लेकर गलत और भ्रामक जानकारियां देने का आरोप लगाया है तो चीन पर कोरोना के संक्रमण के खतरे की गंभीरता को छुपाने का आरोप लगाया.ट्रंप ने WHO की भूमिका पर सवाल उठाते हुए उसकी फंडिंग रोक दी है. ट्रंप ने आरोप लगाया है कि चीन ने अपने देश में हुई मौत के आंकड़ों के दुनिया से छुपाया है. उन्होंने चीन को धमकी देते हुए कहा कि अगर यह पाया गया कि चीन कोरोना महामारी फैलाने के लिए जिम्मेदार है और उसे इसकी जानकारी थी तो गंभीर नतीजे भुगतने होंगे.

ऑस्ट्रेलिया की स्वास्थ्य मंत्री ग्रेग हंट ने कहा कि WHO की सलाह नहीं मानने की वजह से ही ऑस्ट्रेलिया में वायरस को फैलने से रोकने में कामयाबी मिली है. ऑस्ट्रेलिया ने सबसे पहले चीन से आने वाले यात्रियों पर बैन लगाया था जिसका WHO ने विरोध किया था. ऑस्ट्रेलिया में अब तक 6600 कोरोना संक्रमण के मामले सामने आए हैं जबकि 70 लोगों की मौत हुई है.

एक बार फिर अमेरिका ने चीन पर कोरोनावायरस के तथ्यों को छुपाने का आरोप लगाया. अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने फॉक्स न्यूज़ से बातचीत में कहा कि चीन के राष्ट्रपित शी जिनपिंग की नेतृत्व वाली सरकार को इसके लिए जिम्मेदार ठहराना चाहिए. पोम्पियो ने कहा कि चीन को दुनिया को बताना होगा कि इतनी तेजी से वायरस कैसे फैल गया

चीन पर कोरोनावायरस को लेकर चौतरफा दबाव बनता जा रहा है. इससे पहले ब्रिटेन और फ्रांस ने भी कोरोनावायरस को लेकर चीन की पारदर्शिता पर सवाल उठाया है. ब्रिटेन के विदेश मंत्री डॉमनिक राब ने कड़े शब्दों में कहा कि चीन को बताना होगा कि कोरोना महामारी कैसे फैली और उसे रोकने की क्या कोशिश हुई? जबकि फाइनेंशियल टाइम्स को दिए इंटरव्यू में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युल मैक्रों ने चीन के दावों पर संदेह जताते हुए कहा कि चीन में कोरोना से निपटने में ऐसा बहुत कुछ हुआ है जिसकी जानकारी किसी को नहीं है. हालांकि चीन लगातार आरोपों से इनकार कर रहा है कि लेकिन वुहान में हुई मौतों के आंकड़ों में संशोधन के बाद से दुनिया चीन को शक की निगाह से देखने लगी है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First printed: April 20, 2020, 12:01 AM IST



[ad_2]

Leave a Reply