ईरान और न्यूयॉर्क के बाद ब्राजील से आयीं सामूहिक कब्रों की तस्वीरें, कोरोना से हुईं 2700 मौतें I coronavirus After Iran and New York Excavators are digging mass graves in northwest Brazil | rest-of-world – News in Hindi

0
53

ईरान और न्यूयॉर्क के बाद ब्राजील से आयीं सामूहिक कब्रों की तस्वीरें, कोरोना से हुईं 2700 मौतें

ब्राजील में कोरोना संक्रमण से अब तक 2700 मौतें हुईं.

अब ब्राजील (Brazil) के शहर मानौस से एक ऐसी ही सामूहिक कब्र की तस्वीर सामने आई है. यहां शहर के सबसे बड़े कब्रिस्तान में एक साथ सैंकड़ों लोगों को एक साथ दफनाया जा रहा है. इन सभी की मौत कोरोना संक्रमण (Coronavirus) से हुई है.

ब्राजीलिया. कोरोना संक्रमण (Coronavirus) से हुईं हजारों मौतों के बाद ईरान (Iran) और अमेरिका के न्यूयॉर्क (New York) में लोगों मृतकों को दफनाने के लिए सामूहिक कब्रों का इस्तेमाल किया गया था. ऐसी सामूहिक कब्रों की तस्वीरें सोशल मीडिया (Social Media) पर खूब वायरल हुईं थीं. अब ब्राजील (Brazil) के शहर मानौस से एक ऐसी ही सामूहिक कब्र की तस्वीर सामने आई है. यहां शहर के सबसे बड़े कब्रिस्तान में एक साथ सैंकड़ों लोगों को एक साथ दफनाया जा रहा है.

CNN के मुतबिक शहर में हर दिन 100 से ज्यादा लोगों की मौत कोरोना से हो रही है ऐसे में सामूहिक कब्रों का इस्तेमाल करना आखिरी विकल्प बचा है. मानौस के मेयर आर्थर वर्जिलियो नीटो ने बताया कि शुरुआत में हर दिन हो रही मौतों का आंकड़ा 30 के आस-पास था लेकिन अब ये बढ़कर 100 से भी ज्यादा हो गया है, ऐसे में हमारे पार और कोई विकल्प नहीं बचा है. शहर का डिपार्टमेंट जो कब्रिस्तानों की देखभाल करता है, अब न उसके पास पर्याप्त लोग हैं और न ही जगह बची है कि सबका अलग से अंतिम संस्कार किया जा सके.

ब्राजील में कोरोना संक्रमण के 43000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं.

संक्रमण से बचाने के लिए भी किया जा रहा ऐसाबता दें कि कोरोना संक्रमण से मारे गए व्यक्ति के शव से भी इसके फैलने का खतरा है ऐसे में मृतकों के शवों को एक साथ दफनाना ज्यादा सुरक्षित माना जा रहा है. नीटो ने बताया कि हालांकि इस बात का ख्याल रखा जा रहा है कि सामूहिक कब्र में पूरी इज्ज़त के साथ लोगों को दफनाया जाए जिससे बाद में लोग इन कब्रों पर आकर प्रार्थना कर सकें. CNN ब्राजील से बातचीत में नीटो ने कहा कि शहर के अस्पताल कोरोना मरीजों से भरे हुए हैं और अब न तो हमारे पास इलाज करने के लिए जगह है और न ही मेडिकल स्टाफ लगातार काम करते रहने की हालत में है.

नीटो ने सरकार पर आरोप लगाया है कि उन्हें इतनी ख़राब स्थिति होने के बावजूद फेडरल सरकार की तरफ से किसी तरह की सहायता नहीं दी गयी है. उन्होंने बताया कि हम कुछ अस्थायी अस्पताल बनाना चाहते हैं लेकिन बिना मदद के ये कर पाना असंभव है.

2700 मौतों के बाद भी लॉकडाउन का विरोध
ब्राजील दुनिया में कोरोना संक्रमण के नए हॉट स्पॉट के बतौर सामने आया है. यहां अभी तक संक्रमण के करीब 43,079 केस सामने आ चुके हैं जबकि करीब 2700 लोग इस संक्रमण का शिकार होकर जान गंवा चुके हैं. सिर्फ मंगलवार को ही ब्राजील में संक्रमण के करीब 2336 नए केस सामने आए हैं. हालांकि ब्राजील के राष्ट्रपति जैर बोलसोनारो (Jair Bolsonaro) बीते रविवार को लॉकडाउन, क्वारंटीन के नियमों और सोशल डिस्टेंसिंग के खिलाफ राजधानी ब्राजीलिया में आयोजित एक रैली में शामिल हुए. बोलसनारो न सिर्फ इस रैली में शामिल हुए बल्कि उन्होंने कोरोना के खिलाफ जंग में सेना के हस्तक्षेप और कांग्रेस (संसद) व सुप्रीम कोर्ट को बंद करने की मांग भी कर डाली.

 

ये भी पढें:

कैसे देश की नई चुनौती बन रहे हैं बगैर लक्षणों वाले कोविड 19 मरीज़?

कोरोना वायरस: भारत में रिकवरी रेट दूसरे देशों की तुलना में क्यों बेहतर है?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First revealed: April 22, 2020, 8:56 AM IST



[ad_2]

Leave a Reply